हेल्पलाइन: +91-956 852 4734
  • Breaking News

ताज़ा
खबरे

  • क्या आप चाहते है स्वस्थ और निरोगी दांत ? तो जानिए डेंटिस्ट डॉ. स्वाती सिंघल की ये सलाह : -
  • आख़िर क्या है वैक्सीन का सफर ? ज्योति आर्या की रिपोर्ट
  • हड्डी रोग विशेषज्ञ डॉ. भूपेंद्र सिंह बिष्ट की सलाह :
  • जवाहरनगर में राष्ट्रीय मशरूम दिवस पर कार्यशाला आयोजित
  • जानिए कोरोना में डॉ गौरव सिंघल की सलाह:
  • पंतनगर में संरक्षित खेती पर आंनलाइन प्रशिक्षण संपन्न

ख़बरें विस्‍तार से

क्या होता है "हर्निया"? जानिए वरिष्ठ लैप्रोस्कोपिक एवम् जनरल सर्जन डॉ. अपूर्व गुप्ता से :-

  Publish Date: Jan 7 2021 12:33PM IST

क्या होता है "हर्निया"? जानिए वरिष्ठ लैप्रोस्कोपिक एवम् जनरल सर्जन डॉ. अपूर्व गुप्ता से :- 

 

हार्निया की बीमारी में बॉडी कैविटी की झिल्ली कमजोर हो जाती है जिसकी वजह से हमारे अंदरुनी अंग झिल्ली से बाहर को दबाव बनाने लगते है और शरीर में उस जगह पर उभार आने लगता है। या इसे सामान्य भाषा में पेट की दीवार में छेद होना भी कहते हैं। हर्निया का इलाज केवल सर्जरी (शल्यचिकित्सा) द्वारा ही संभव है। इसके इलाज में देरी करते हैं तो इससे शरीर के भीतरी अंगों और रक्त वाहिकाओं को नुकसान हो सकता है। 

सामान्यतः पेट में लिवर, पैंक्रियाज, किडनी, गाल ब्लैडर और आंतें होती हैं, जिनको बॉडी कैविटी (झिल्ली) कवर करती है। जब यह झिल्ली कमजोर हो जाती है,फट जाती है या झिल्ली में छेद हो जाता है तब इसके आसपास के अंग जगह छोड़ देते हैं। इससे शरीर के उस हिस्से में उभार दिखाई देने लगता है। 
हर्निया के शुरूवाली लक्षणों में खांसने, छींकने या भारी वजन उठाने, लंबे समय तक दौड़ने से गोलनुमा आकृति शरीर में उभरकर सामने आती है। इसमें हल्का दर्द भी हो सकता है। आराम करने पर दर्द कम हो जाता है। इससे शरीर के उस हिस्से में हवा भरने जैसा महसूस होता है। 

एडवांस स्टेज में इसका आकार बड़ा हो जाता है और लेटने या दबाने से भी दर्द कम नहीं होता है।
हर्निया पेट में हुए किसी भी ऑपरेशन (ओपन सर्जरी) के बाद भी हो सकता है।

इसका का ऑपरेशन दो तरह से होता है। "ओपन सर्जरी "- में चार से छह इंच का चीरा लगाकर बाहर की तरफ निकले अंग को भीतर कर जाली लगाते हैं। "लेप्रोस्कोपी" -  में एक छेद एक सेमी और दो छेद आधे-आधे सेमी का करते हैं। बाहर निकले अंग को भीतर कर जाली लगाते हैं। टाइटेनियम से बनी फिक्सेशन डिवाइस होती है जिसकी मदद से उसे फिक्स करते हैं। डबल लेयर की यह जाली प्रोलीन नामक तत्त्व से बनती है।
हर्निया का इलाज केवल एकमात्र ऑपरेशन द्वारा ही संभव है इसलिए उपरोक्त किसी भी परेशानी में तुरंत अपने चिकित्सक से संपर्क करना चाहिए।

रिपोर्टर

अगली प्रमुख खबरे

आप का कोना