हेल्पलाइन: +91-956 852 4734
  • Breaking News

ताज़ा
खबरे

  • फरियादियों से मिलने का अंदाज एन डी तिवारी जैसा है तीरथ का
  • क्या आप चाहते है स्वस्थ और निरोगी दांत ? तो जानिए डेंटिस्ट डॉ. स्वाती सिंघल की ये सलाह : -
  • आख़िर क्या है वैक्सीन का सफर ? ज्योति आर्या की रिपोर्ट
  • हड्डी रोग विशेषज्ञ डॉ. भूपेंद्र सिंह बिष्ट की सलाह :
  • जवाहरनगर में राष्ट्रीय मशरूम दिवस पर कार्यशाला आयोजित
  • जानिए कोरोना में डॉ गौरव सिंघल की सलाह:

ख़बरें विस्‍तार से

चीन ने हजारों टन सैन्य साजोसामान तिब्बत भेजे

  Publish Date: Jul 19 2017 11:58AM IST
टैग्स:

  भारत में डोकलाम को लेकर के तनातनी के बीच चीन ने तिब्बत में दो सैन्य अभ्यासों के बहाने अपने हजारो टन सैन्य साजोसामान इन पठारों की तरफ भेजे।
सूत्रो के मुताविक सैन्य तैनाती में यह इजाफा सिक्किम सीमा के पास नहीं, बल्कि पश्चिम में शिनजियांग प्रांत के निकट उत्तरी तिब्बत में किया गया है. हालांकि यहां गौर करने वाली बात यह है कि बीजिंग यादोंग से लेकर ल्हासा तक फैले अपने रेल और सड़क नेटवर्क के जरिये इन सैन्य साजोसामान को सिक्किम सीमा के निकट नाथू-ला तक पहुंचा सकता है.  चीनी सेना को अपने एक्सप्रेसवे नेटवर्क के जरिये करीब 700 किलोमीटर की यह दूरी तय करने में महज छह से सात घंटे का वक्त लगेगा.

    साउथ चाइना मॉर्निंग पोस्ट ने चीनी सेना के मुखपत्र पीएलए डेली के हवाले से लिखा है, अशांत तिब्बत और शिनजियांग प्रांत में पश्चिमी थिएटर कमांड ने उत्तरी तिब्बत में कुनलुन पर्वतों के दक्षिण में सैन्य साजोसामान भेजे हैं.’ हालांकि पीएलए डेली ने यह कहीं नहीं बताया है कि साजोसामान की यह तैनाती उसके दो सैन्य अभ्यासों के लिए है.

वहीं संघाई स्थित सैन्य टिप्पणीकार नी लेशियॉन्ग ने इस बावत बातचीत में साउथ चाइना मॉर्निंग पोस्ट से कहा कि यह सैन्य मूवमेंट ’सीमा तनाव से जुड़ा हुआ और भारत को बातचीत की मेज़ पर लाने के लिए डिजाइन किया गया प्रतीत होता है.’ अखबार ने उनके हवाले से लिखा है, ’कूटनीतिक वार्ताओं को पीछे से सैन्य तैयारियों का साथ दिया जाना चाहिए.’

    वहीं एक अन्य सैन्य टिप्पणीकार झू चेंमिंग ने अखबार कहा, ’पीएलए (चीनी सेना) यह दिखाना चाहती है कि वह अपने पड़ोसी भारत को आसानी से हरा सकता है.’ हालांकि दक्षिण एशिया के रणनीतिक विशेषज्ञ वांग देहुआ ने इसी अखबार से बातचीत में कहा कि ’यह सैन्य ऑपेरशन पूरी तरह से साजोसामान को लेकर है’ और अभी तिब्बती इलाके में काफी बेहतर लॉजिस्टिक सपोर्ट मौजूद है.

देहुआ साथ ही कहते हैं कि इस पठार को बाकी के चीन से जोड़ने वाले तिब्बत-किंघाई रेलवे और नई सड़क नेटवर्क सहित इलाके के बेहतरीन इंफ्रास्ट्रक्चर की बदौलत पीएलए बेहद जल्दी और आसानी से इस सीमावर्ती इलाके में अपने सैनिक और साजोसामान भेज सकता है

रिपोर्टर

अगली प्रमुख खबरे

आप का कोना